रेप के आरोपी नित्यानंद ने बसाया खुद का नया देश…अलग झंडा-10 करोड़ आबादी.. प्रधानमंत्री भी नियुक्त, देश से भागकर सात समंदर पार बसा लिया ‘हिंदू राष्ट्र’ ‘कैलासा’

नई दिल्ली 4 दिसंबर 2019। दुष्कर्म के आराेपाें में फरार और भारत से भाग चुके नित्यानंद स्वामी के बारे में चर्चा है कि उसने त्रिनिदाद और टाेबैगाे के पास इक्वाडोर के पास एक द्वीप पर अपना नया देश बसा लिया है। रिपाेर्ट्स के मुताबिक, उसने देश का नाम कैलासा रखा है। अनुयायियों के साथ बलात्कार और बच्चों को अगवा करने का आरोपित नित्यानंद देश छोड़कर भाग चुका है। गुजरात पुलिस ने यह कहा था। उसे वापस लाने के लिए पुलिस विदेश मंत्रालय के साथ काम कर रही है। इतना ही नहीं, वेबसाइट पर बताया गया है कि कैलासा देश की परिकल्पना अमेरिका में की गई थी। इसे सनातन हिंदू धर्म की रक्षा करने के लिए बनाया गया है। नित्यानंद के इस देश की अपनी सरकार है, जिसमें कई विभाग हैं फिर चाहे गृह विभाग हो या फिर वित्त विभाग।

वाट्सएप पर अपडेट पाने के लिए कृपया क्लीक करे

वेबसाइट पर दी है नए देश की जानकारी
कैलासा की वेबसाइट के अनुसार, ‘यह आइलैंड त्रिनिदाद और टोबैगो देशों के पास है। इसमें किसी एक देश की तरह तमाम सरकारी पदों पर लोग नियुक्त किए गए हैं। जैसे- प्रधानमंत्री, कैबिनेट मंत्री, सेना प्रमुख और अन्य। वेबसाइट पर संविधान और सरकारी ढांचे की जानकारी दी गई है।  कर्नाटक पुलिस के मुताबिक, नित्यानंद 2018 के अंत में जमानत का फायदा उठाते हुए देश से भाग गया था। उसका पासपोर्ट सितंबर 2018 में खत्म हो चुका है।

चौंकाने वाली बात यह सामने आ रही है कि नए बनाए गए देश कैलासा का अपना पासपोर्ट है। पासपोर्ट के प्रतीकों में कैलासा का ध्वज, जिसे ऋषभ ध्वजा कहा जाता है और नित्यानंद के साथ नंदी, भगवान शिव का पर्वत भी शामिल है।

वेबसाइट का कहना है कि नए देश में एक मंदिर आधारित पारिस्थितिकी तंत्र, थर्ड आई के पीछे विज्ञान, योग, ध्यान और गुरुकुल शिक्षा प्रणाली की व्यवस्था है। इस देश में सार्वभौमिक मुफ्त स्वास्थ्य देखभाल, मुफ्त शिक्षा, मुफ्त भोजन और सभी के लिए एक मंदिर-आधारित जीवन शैली देने की बात कही गई है। देश में चलने वाली भाषाओं नें अंग्रेजी, संस्कृत और तमिल शामिल हैं।

गुजरात के आश्रम में लड़कियाें के शाेषण की खबराें और बच्चाें काे बंधक बनाकर रखने के मामले में भी पुलिस उसे तलाश रही है। बताया जाता है कि वह नेपाल के रास्ते त्रिनिदाद भागा था। गुजरात पुलिस ने 22 नवंबर को ही नित्यानंद का अहमदाबाद का आश्रम खंगाला था, लेकिन वहां कुछ सामान ही मिला और कुछ पता नहीं लगा.

ऑफ स्पिनर की ट्विटर पर मजेदार गुगली भारत के मशहूर ऑफ स्पिनर सोशल मीडिया पर अक्सर अपनी राय रखते हैं। भगोड़े नित्यानंद के नया देश बनाने की खबरों पर चुटकी लेते हुए तमिलनाडु के गेंदबाज ने लिखा, ‘कैलासा जाने के लिए वीजा लेने की क्या प्रक्रिया है? और क्या यह वीजा ऑन अराइवल है?’ इसके साथ ही इस गेंदबाज ने एक इमोजी और हैशटैग #Kailaasa भी लिखा। इससे पहले तमिलनाडु की राजनीति पर भी अश्विन मजेदार ट्वीट कर चुके हैं।